ukadworld.comgood company to earn the money

S
This review was posted by
a verified customer
Verified customer

Package Price Validity (Weeks) Profits Reward
Package Price Validity (Weeks) Advertisement (Per Click) Team Commission (Per Match) Direct Referral Point
Classic 3500 51 500 300 300 0.5
Premium 6500 51 1000 600 600 1

1.) Advertisement (Per Click)
Maximum 1 click every week

2.) Team Commission
Company pair your direct and indirect associates both side
Your first associates either side will rollover to support this business. The First pair would be calculated in the ratio of 1:2 or either 2:1, thereafter 1:1 for the unlimited depth.
To eligible for this income minimum two direct associates will be needed
You can earn maximum 84000 per week.

3.) Direct Referral
You can earn unlimited every week

4.) Commission Distribution
Advertisement monthly to your Wallet 10% product wallet and 90% E. Wallet.
Other commission will be calculated weekly.

CALCULATE YOUR PROFIT
Join with Classic package
Just Imagine,

Advertisement (Per Click)
If you click 1 ad per week
Advertisement Income per week 500
Advertisement Income 51 weeks 25500

Join with premium package
Just Imagine,

Advertisement (Per Click)
If you click 1 ad per week
Advertisement Income per week 1000
Advertisement Income 51 weeks 51000

Rewards


Pair Point Earn
20 Net Book
40 LCD
80 Bike
200 Nano
400 Alto
800 Indigo
2000 Safari
5000 Mercedes

s.p. singh
[protected]
[protected]
[protected]@yahoo.com
company start in 10/3/2011

Responses

  • Ra
    raj kuma Jun 25, 2011

    सख्त
    By N.K.Bhardwaj Fri, 24/06/2011 - 18:41

    नई दिल्ली, Hindi7.com ।। आपने ऑनलाइन सर्वे कंपनी “स्पीक एशिया” का विज्ञापन तो देखा ही होगा। अब इस सर्वे कंपनी पर फर्जीवाड़ा करने का आरोप लगाया जा रहा है। आरोप के बाद सरकार भी इसके खिलाफ सख्त हो गई है और मामले की जांच की जा रही है।

    भारी फर्जीवाड़े के संकट में फंसती “स्पीक एशिया” के प्रमुखों ने अपने कंपनी से संबंधित सारे तथ्यों को मीडिया के माध्यम से सामने रखने की कोशिश की, लेकिन फिर भी यह बताने में नाकाम रहे कि स्पीक एशिया है क्या ? ध्यान रहे कि स्पीक एशिया का कार्यालय सिंगापुर में है और भारत में इसका पंजीकरण नहीं है। ऐसे में कभी-भी किसी के साथ धोखाधड़ी हो सकता है और सरकार भी आपकी कोई मदद नहीं कर पाएगी। अत: इसका हिस्सा बनने से पहले एकबार जरूर विचार कर लें। कंपनी के कारोबार से संबंधित, जो भी प्रश्न उठाये जा रहे हैं, उसका कंपनी अभी तक कोई संतोषजनक जबाव नहीं दे पायी है।

    कंपनी दावा करती है कि वह दुनिया के बड़े-बड़े कंपनियों के लिए सर्वे करती है, लेकिन हैरानी की बात तो यह है कि जब कंपनी से उनके कुछ नाम बताने को कहा गया, तो कंपनी गोपनियता का बहाना बनाकर सवाल को टाल गये। एक प्रेस वार्ता को संबोधित करते हुए, इसके प्रमुखों ने कहा कि स्पीक एशिया न निवेश कंपनी है, न रिसर्च कंपनी है और न ही कोई मल्टीलेवल मार्केटिंग कंपनी है। ऐसे में मीडिया की ओर से सवाल किया गया कि यह किस तरह की कंपनी है ?, लेकिन कंपनी प्रमुखों ने इसका कोई जबाव नहीं दिया। स्पीक एशिया के अधिकारियों की मानें, तो सिंगापुर में इसके नीचे पांच कंपनियां हैं, लेकिन इनके लेन-देन के तरीके को नहीं बताया जा रहा है। यह कंपनी ऑनलाइन सर्वे के तहत, अपने ग्राहकों को एक सर्वे फॉर्म भरने के बदले 500 रूपये देती है।

    खबरिया चैनल “आजतक” ने स्पीक एशिया के ऊपर एक “स्टिंग ऑपरेशन” करके, इसको कठघड़े में खड़ा कर दिया है। इस स्टिंग ऑपरेशन के बाद से केंद्र सरकार भी इसकी और इसके जैसी अन्य कंपनियों की सघन जांच-पड़ताल कर रही है। अगर सबकुछ ठीक नहीं रहा, तो सरकार की ओर से इसके खिलाफ कड़ी कार्रवाई की जा सकती है। केंद्र सरकार के कंपनी मामलों के सचिव डी. के. मित्तल ने कहा है कि सरकार ऐसी कंपनियों के खिलाफ जल्द ही सख्त कदम उठाएगी। एक अन्य खबर के मुताबिक, बांग्लादेश में स्पीक एशिया से जुड़े दो लोगों को गिरफ्तार किया गया है। बताया जा रहा है कि इनके खिलाफ, एक ग्राहक ने फर्जीवाड़े का आरोप लगाया है।

    कब से कर रहा है भारत में कारोबार

    स्पीक एशिया मई 2010 से ही भारत में “ऑनलाइन सर्वे” का काम कर रही है। इसके देशभर में 19 लाख सदस्य हैं। अपना सदस्य बनाने के लिए यह कंपनी प्रत्येक से 11, 000 रुपए लेती है। एक सदस्य से महीने में कुल 8 सर्वे कराए जाते हैं और हर सर्वे के लिए कंपनी अपने सदस्यों को 500 रुपए का भुगतान करती है। मतलब 3 महीने में 11, 000 रुपए वसूल हो जाते हैं। आप कह सकते हैं कि यह मल्टी लेवल मार्केटिंग कंपनी की तरह ही काम करती है।

    कई लोग हैं इसके जाल में फंसे

    स्पिक एशिया के जाल में छत्तीसगढ़ और चंडीगढ़ सहित देश के हजारों-लाखों लोग फंस चुके हैं। छत्तीसगढ़ राज्य के 50 हजार से अधिक लोगों ने 100 करोड़ रुपये से ज्यादा का निवेश किया है। अब कंपनी के प्रमुख कह रहे हैं कि उन्होंने कभी भी 11 हजार रुपये के निवेश के बदले, हर महीने चार हजार रूपये देने का वादा नहीं किया था या है। कंपनी द्वारा मिले, ऐसे जबाव के बाद, अब लोगों को अपना पैसा डूबने का डर सता रहा है।

    क्या कहना है स्पीक एशिया के सीईओ का ?

    इधर, स्पीक एशिया के सीईओ मनोज कुमार ने कहा है कि "उनके बैंक खाते बंद नहीं हुए हैं, वरन् वे बैंक बदल रहे हैं"। अब सवाल उठटा है कि ऐसा क्या हो गया कि बैंक ने अपनी तरफ से ही स्पीक एशिया के खाते को बंद कर दिया? फिलहाल कंपनी अपने एजेंटों का भुगतान नहीं कर रही है। बताया जाता है कि स्पीक एशिया के खातों में करीब 10 हजार करोड़ रुपए से अधिक की रकम है। यह भी कहा जा रहा है कि सारा पैसा भारत से बाहर जा चुका है या जाने की प्रक्रिया में है।

    मनोज कुमार ने यह भी कहा कि "हमें अभी तक किसी भी जांच एजेंसी या आरबीआई से कोई नोटिस नहीं मिला है, लेकिन कॉपरेरेट अफेयर्स मंत्रालय के आर्थिक अपराध विभाग ने उनसे संपर्क जरूर किया है। दिल्ली और मुंबई पुलिस भी जांच कर रही है। हर तरह के जांच में हम पूरा सहयोग देंगे। कंपनी ने अपने पैनलिस्टों को खुद ही ई-मेल डाल कर सूचित किया है कि अभी कुछ समय के लिए भुगतान नहीं हो पाएगा"।

    सूत्रों के मुताबिक, स्पीक एशिया केयमैन आइलैंड्स में रजिस्टर्ड है। बीते दिनों मुंबई में हुई एक प्रेस कांफ्रेंस में भी कंपनी के अधिकारियों ने माना था कि ऐसी कुछ बाते कहीं गई हैं, जिन पर कंपनी खरा उतर पाने में असफल रही है।

    आरबीआई ने डाली नकेल

    खबर यह भी है कि रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया ने इस ऑनलाइन सर्वे कंपनी के सभी खातों को सील कर दिया है। रिजर्व बैंक ने इसके खातों से हर तरह के ट्रांजेक्शन पर भी रोक लगा दी है। वहीं आयकर विभाग ने इसकी आय और ट्रांजेक्शन की जांच शुरू कर दी है। कंपनी इस आदेश के खिलाफ अदालत में जाने की तैयारी कर रही है।

    भारत सरकार क्यों नहीं रोक पा रही ?

    सरकार इस तरह की फर्जी कंपनियों पर रोक लगाने में असफल रही है। कॉर्पोरेट अफेयर्स मंत्रालय की मानें, तो सिंगापुर से ऑपरेट हो रही स्पीक एशिया को भारत में रेगुलेट करना बेहद मुश्किल है। सरकार इसमें कुछ खास नहीं कर सकती। डब्ल्यूटीओ और दूसरे देशों के कानून भी इसमें बाधक का काम करते हैं। कॉर्पोरेट अफेयर्स मंत्रालय का कहना है कि वह लोगों को जागरूक करेगी, ताकि निवेशक स्पीक एशिया जैसी कंपनियों के झांसे में न आ सकें। एमसीए ने इसके लिए सेबी और आरबीआई के साथ मिलकर अगले 3 महीने में 300 जिलों में लोगों को जागरूक करने के लिए खास तरह के कार्यक्रमों का आयोजन करेगी।

    पत्रिका का प्रकाशन है मुख्य कार्य

    स्पीक एशिया की ओर से कहा जा रहा है कि उसका मुख्य काम स्पीक एशिया पत्रिका का प्रकाशन है। कंपनी प्रिंट एंड इलेक्ट्रॉनिक नेटवर्क समूह का हिस्सा होने का दावा कर रही है, जिसका नाम इससे पहले भारत में सुना ही नहीं गया है। कंपनी की वेबसाइट पर भी यहीं दावा किया गया है कि यह पहली ऐसी पत्रिका है, जिसने ऑन लाइन मार्केटिंग के ऐसे कार्याकलाप की पूरे इत्मीनान से समीक्षा की है। अब स्पीक एशिया ऑनलाइन के पदार्पण से दावा किया जा सकता है कि सर्वे व नेटवर्किग के मिश्रण से यह कंपनी लोगों को कमाई का बेहतरीन विकल्प उपलब्ध करवा रही है।

    कहां है गड़बड़ झाला

    स्पीक एशिया 11 हजार रुपए में एक आईडी देती है और एक व्यक्ति 7 से 21 आईडी तक ले सकता है। वैसे यह व्यक्ति की ईमानदारी पर निर्भर करता है क्योंकि लोगों ने 100 आईडी तक ले रखे हैं। इसके ग्रहकों को सप्ताह में दो सर्वे आते हैं और प्रत्येक के लिए 500 रूपये का भुगतान किया जाता है। अब कंपनी यह बताने के लिए तैयार नहीं है कि उसे इतना भारी भुगतान कर, सर्वे करवाने वाली कंपनियां कौन-सी है, और उनके साथ किए गए करार क्या हैं ? फिर कंपनी एक ही व्यक्ति को एक से अधिक आईडी दे रही है, तो सर्वे की प्रमाणिकता क्या रह जाती है ?

    झूठ बोले कौआ काटे

    स्पीक एशिया ने कहा था कि आईसीआईसीआई, बाटा, एयरटेल और नेस्ले उसके ग्राहक हैं, लेकिन इसमें कोई सच्चाई नहीं है। भारत में तीन ऑफिस खुलने की बात कही गई, लेकिन अभी तक एक भी नहीं खुला। कई रिटेल कंपनियों के पार्टनर बनने की बात कही, लेकिन हकीकत में ऐसा कुछ भी नहीं है। सिंगापुर में कारोबार करने की बात कही गई, लेकिन साक्ष्य कुछ भी नहीं।

    स्पीक एशिया का गहरा रिश्ता है जालंधर से

    स्पीक एशिया की प्रेसिडेंट हरिंदर कौर पंजाब के जालंधर की रहने वाली हैं। कौर कई दशकों से सिंगापुर में ही रहती हैं। स्पीक एशिया भारत से भी पहले बंग्लादेश में अपना काफी विस्तार कर चुकी है, लेकिन अब वहां पर भी कंपनी के कार्यप्रणाली की जांच की जा रही है।

    फर्जीवाड़े के इस धंधे में कई और भी हैं

    लखनऊ में स्पीक एशिया के तर्ज पर ही "जीबी एशिया" नाम की कंपनी काम कर रही है, जिसके झांसे में आकर लखनऊ के हजारों निवेशक फंस चुके हैं। लखनऊ की इस कंपनी ने हर निवेशक से 6, 500 रुपए लिये और वादा किया कि उनकी कंपनी अपने ग्राहकों को हर हफ्ते 1, 000 रुपए दिया करेगी, लेकिन 2 महीने तक किसी भी निवेशक को इस कंपनी ने एक पैसा भी नहीं दिया। निवेशकों द्वारा पुलिस में शिकायत दर्ज कराने पर लखनऊ की हजरतगंज पुलिस ने जीबी एशिया के फ्रेंचाइजी मैनेजर को हिरासत में ले लिया है।

    उत्तर प्रदेश के ही एक अन्य ऑनलाइन सर्वें कंपनी "राम सर्वे कंपनी" का मालिक अपने ऑफिस में ताला लगाकर फरार है। राम सर्वे का कार्यालय उत्तरप्रदेश के मिर्जापुर में है।

    एसएलके ऑनलाइन डॉट कॉम, यूकेएडवर्ल्ड डॉट कॉम और राम सर्वे जैसी ही कई अन्य कंपनियां भी हैं, जो लोगों से ऑनलाइन सर्वे के बदले पैसा देने का लालच देकर रूपये वसूलने का कार्य कर रही हैं।
    .Post

    0 Votes
  • Na
    narendra singh bisht Apr 03, 2011

    this is not a scam . it is true to earn the 1000/- rs. in a week just view the teleshoping marketing ad view. it is good chance to earn the money
    contact the [email protected] to join it.
    s.p. singh
    [protected]
    [protected]

    0 Votes
  • Ka
    Kaleem siddiqui Mar 30, 2011

    ukadworld.com
    Posted: 2011-03-30 by shishu05


    good company to earn the money

    Complaint Rating:
    Company information:
    ad view company earn the money
    India
    ukadworld.com

    Package Price Validity (Weeks) Profits Reward
    Package Price Validity (Weeks) Advertisement (Per Click) Team Commission (Per Match) Direct Referral Point
    Classic [protected] 0.5
    Premium [protected] 1

    1.) Advertisement (Per Click)
    Maximum 1 click every week

    2.) Team Commission
    Company pair your direct and indirect associates both side
    Your first associates either side will rollover to support this business. The First pair would be calculated in the ratio of 1:2 or either 2:1, thereafter 1:1 for the unlimited depth.
    To eligible for this income minimum two direct associates will be needed
    You can earn maximum 84000 per week.

    3.) Direct Referral
    You can earn unlimited every week

    4.) Commission Distribution
    Advertisement monthly to your Wallet 10% product wallet and 90% E. Wallet.
    Other commission will be calculated weekly.

    CALCULATE YOUR PROFIT
    Join with Classic package
    Just Imagine,

    Advertisement (Per Click)
    If you click 1 ad per week
    Advertisement Income per week 500
    Advertisement Income 51 weeks 25500

    Join with premium package
    Just Imagine,

    Advertisement (Per Click)
    If you click 1 ad per week
    Advertisement Income per week 1000
    Advertisement Income 51 weeks 51000

    Rewards


    Pair Point Earn
    20 Net Book
    40 LCD
    80 Bike
    200 Nano
    400 Alto
    800 Indigo
    2000 Safari
    5000 Mercedes

    s.p. singh
    [protected]
    [protected]
    [email protected]
    company start in 10/3/2011
    ///////
    /////
    ////
    ////
    ///
    ////
    contact for joining
    ph numder
    [protected]

    0 Votes

Post your comment

    By clicking Submit you are agreeing to the Complaints Board’s Terms and Conditions

    IN THE NEWS

    Unhappy consumers gather online at Complaintsboard.com and have already logged thousands of complaints.
    If you see dozens of complaints about a certain company on ComplaintsBoard, walk away.
    One of the largest consumer sites online. Posting here your concerns means good exposure for your issues.
    A consumer site aimed at exposing unethical companies and business practices.
    ComplaintsBoard is a good source for product and company gripes from especially dissatisfied people.
    You'll definitely get some directions on how customer service can best solve your problem.
    Do a little research on the seller. Visit consumer complaint websites like ComplaintsBoard.