SUBMIT A COMPLAINT

NGO(som foundation) / fraud done by som foundation

1 c-274 rajendra nagar, bareilly, India

निवेदन इस प्रकार है lमैं ये ज्ञात करना चाहता हु की सोम फाउंडेशन जो यूपिका के यहा रजिस्टर्ड ngo है l वो बिलकुल फ्रॉड ngo है न तो उसका कोई ऑफिस है न कोई पक्का पता इस ngo जिसकी संचालिका नमिता शर्मा, अंजली और सोम है बिकुल फ्रॉड है नमिता शर्मा ने मुझे फ्रॉड तरीके से अपनी ngo मैं vise chairmen बनाने के लिए पहेले एक त्यागपत्र दिखाया फिर 8 जगह हरताक्षर कराये फिर 3 दिन बाद अपने पति से बात करायी दिल्ली मैं, की आपका नाम vise chairmen मैं पड़ गया है जो की एक फ्रॉड था l इन्होने मुझे एक फाइल दी जिसमे मैं vice chairmen था और कहा यूपिका कानपुर मैं जमा कर दीजिये इन्होने अपने ऑफिस का पता भी मेरा घर का पता लिखा दिया दूसरा पता जो दिल्ली का है वह भी कोई ऑफिस नहीं है l फिर इसने मुझसे कहा की हमें सहारनपुर डूडा का ucdn (women empowerment) 27 लाख का काम मिल गया है l अपनी ngo पर और इन्होने मुझसे 8 लाख रूपये मांगे ये कह कर की अभी 50% का चेक आते ही आपका पैसा वापस दे दूंगी अभी एक्टिविटी शुरु करनी जरुरी है मैंने उधार मांग कर ये पैसा इकठ्ठा किया l बाद मैं पता लगा वो किसी और की फाइल पर काम था इन्होने पैसे ऐठने के लिए झूट बोला था lये मुझे पैसे देने के लिए टालती रही जब मुझे पता चला की वो किसी और का काम था तो इसने ये कहा की वो पैसे नहीं दे रहा l मैं उस ngo से भी मिला तो पता लगा उसने इन्हें २३ लाख दे चुका है l मैं पैसा दे फस गया था क्योकि पैसा चेक से नहीं दिया बल्कि एक्टिविटी के लिए एटीएम से निकलता रहा और 2 लाख इनकी बेहेन के अकाउंट मैं अपनी सास से चैक डलवाए थे l फिर इन्हें बुलन्दशहर का काम मिला इन्होने मुझे वहा ट्रेनर रखा जब एक्टिविटी के बाद चेक आया तो मैंने फिर अपना पैसा माँगा ये मेरा पैसा देने से मुकर गयी और कहने लगी आप तो vise chairmen हो ही नहीं जो करना है कर लो और अपने पैसा चैक से नहीं दिया मुझे और अगर मेरे घर आये और पैसा मांगने तो रिपोर्ट लिखा दूंगी अपने गलत किया महिला होने का फायदा उठती है मुझे घर जाने से डर है इसके कही गलत रिपोर्ट न लिखा दे l ये इसी तरह लोगो को ठगती है और बाद मैं पैसा वापस नहीं करती और लोगो को डाराती है l जब मैंने कहा मैं कंप्लेंट करूँगा तो बोली मिश्रा जी मेरे खास है मेरा कुछ नहीं कर पाओगे मैं यूपिका मैं फाइल बदलवा दूंगी मिश्रा जी की मदद से l इस ngo और इसकी संचालिका नमिता शर्मा और अंजलि ने औरो से भी फ्रॉड किया है बुलन्दशहर मैं भी प्रतिभा चंदेल जी के 5 लाख लगाये और वापस नहीं किए सिर्फ 2.5 लाख दिए, एक ओ पी गोयल है उनके भी 1.5 लाख लेके नहीं दिए है ये बिलकुल फ्रॉड ngo है l ये दोनों लोग मेरे साथ गवाही देने को तयार है मेरे पास इनके बुलदशहर का पूरा हिसाब है की ट्रेनिंग और टूर मैं सिर्फ 8 लाख के करीब खर्च हुआ है बाकी २४ लाख का गबन है l मैं सिर्फ अपना पैसा वापस चाहता हु जो मेरे पर कर्जा है मैंने उधार लेके दिया था इसे मेरी बहुत बुरी इस्थिति है l मेरा आपसे सिर्फ येही विनती है की इसका रजिस्ट्रेशन निरस्त किया जाये और और अगर इसका कोई पेमेंट बाकि है तो रोका जाये l इसने बुलन्दशहर एक्टिविटी मैं भी जो ३२ लाख की थी सिर्फ 8 लाख लगाया बाकी सरकारी पैसे का गबन कर गयी ऐसे ही शाजहंपुर मैं भी १६ लाख का काम 3 लाख मैं ख़तम कर दिया बाकी सरकारी पैसे का गबन कर गयी ऐसी ngo की तुरंत कार्यवाही होनी चाहिए और सारे गबन करे हुए पैसे वसूले जाये ये एक देशद्रोह है क्योकि ऐसे ngo देश के विकास मैं एक रोड़ा है ये वो दीमक है जो हमारे देश को खा रहे है l मैं दरखास्त है इस सोम फाउंडेशन और इसकी संचालिका पर सख्त कार्यवाही करते हुए इसका रजिस्ट्रेशन निरस्त किया जाये और इसका कोई पेमेंट न किया जाये है और हो सके तो मेरा पेमेंट कराया जाये l आप मेरा नाम यूपिका मैं जमा सोम फाउंडेशन की फाइल मैं देख सकते है vice chairmen की जगह और इसके बोर्ड को डायरेक्टर दिल्ली से मागवा के भी पता करा ले ये फ्रॉड lमैं इस संस्था पर फ्रॉड करने का और धोका धडी से पैसा लेना का केस करूँगा और ४२० से मुझे vise chairmen बनाने का केस भी मैं थाने मै रिपोर्ट लिखाने भी गया था पर इसने किसी जान पहचान से मेरी रिपोर्ट नहीं लिखने दी l मैं उम्मीद करता हु की आप इसे सज्ञान मैं लेते हुए तुरंत उचित कार्यवाही करेगे l मैं चाहता हूँ की मुझे पत्र व्यवहार से सूचित किया जाये की क्या कारवाही हुई या सुचना के अधिकार से l आप पर मुझे पूर्ण विश्वास है की आप तुरंत कार्यवाही करे गे मैं इसके साथ इनका बुलंदशहर का खर्चे का ब्यौरा लगा रहा हु ताकि ये पता लगे आपको ये कितनी फ्रॉड है l मैं फिर ज्ञात करना चाहता हु की इस ngo ने सब काम यूपिका पर किए है ucdn प्रोग्राम डूडा द्वारा सचालित l बस इतना विनम्र निवेदन है की जल्द से जल्द आप इसकी तफ्तीश करा कर सरकारी पैसा वसूले और हो सके तो मेरा पैसा भी दिला दे क्योकी अगर मेरा पैसा नहीं मिला तो मरने के इलावा कोई और चारा नहीं है मेरे पास लेनदार रोज भला बुरा बोलते मेरे परिवार और मुझे पर अब जिंदगी भरी लगती है l अगर आप लोग भी कुछ नहीं कर सकते तो मैं अपने परिवार संग मर जाऊंगा l
प्रार्थी
शिवम् कपूर, c-33 राजेंद्र नगर
बरेली, ९५५७२६००००


बुलंदशहर के खर्च का ब्यौरा
पूरा काम था ३२ लाख का जिसमे ११ लाख की 3 दिवसीय ट्रेनिंग ५२० महिलाओ की (ucdn ) और १६० महिलाओ का गुजरात का 5 दिवसीय टूर
तिन दिवसीय ट्रेनिंग
हॉल+चेयर+डेकोरेशन १००००*3 दिन =३००००
खाना ४०*५२०*3दिन =६२४००
साउंड १०००*3दिन =३०००
प्रोजेक्टर १०००*3दिन =३०००
STYFUND (मानदेय) 200*५२०=१०४०००
TOTAL =२०२४००
बाकी ट्रेनिंग मैं न तो किसी ट्रेनर को पैसा दिया न किसी और को जिसका 5 लाख लगवाया वो भी नहीं दिया प्रतिभा चंदेल जी का सिर्फ 2.5 लाख वापस किए
फिर २२ लाख का 5 दिन का टूर programe गुजरात का १६० महिलाओ का बुलंदशहर से
ब्यौरा
एक दिन ट्रेन मैं जाना गुजरात 3 दिन रुकना एक दिन वापस आना हो गया टूर
टिकेट जाना ५००*१६० =८००००
रुकना और खाना (ठेके पर किया ) ८००*१६०*3दिन =३८४०००
धर्मशाला मैं ८०० रुपए रोज प्रति महिला
टिकेट आना ५००*१६० =८००००
एक्स्ट्रा खर्चा ५००००
टोटल ट्रेनिंग +टूर ७९६०००
टोटल खरचा ७९६००० इसका मतलब ३२ का लाख मैं सिर्फ ७९६००० खर्च बाकी २४०४००० का गबन सरकारी पैसे का l यानि सिर्फ बुलंदशहर से २४०४००० का गबन
और प्रतिभा चंदेल जी का 2.5 लाख
पूरा गबन बुलान्द्शेर से =२४०४००० +२५०००० =२६५४००००
शाहजहांपुर खर्च का ब्यौरा
पूरा शाहजहांपुर का काम था १६ लाख का 3 दिवसीय ट्रेनिंग और 5 दिवसीय ट्रेनिंग
इसका पूरा ब्यौरा नहीं मिला पर पता लगा की काम सिर्फ 3 लाख निपटाया है
खाना दिया है 20 रूपये प्रति महिला के हिसाब से ( 4 पूरी और आलू )ट्रेनिंग के लिए हॉल या भवन एक स्कूल ले लिया ट्रेनर कोई रखा नहीं मइक और साउंड ५०० रूपये रोज टेंट और कुर्सिय ५००० रूपये रोज सारा मानदेय भी नहीं दिया बाकी सारा पैसा भी गबन कर लिया है न ट्रेनिंग दी ढंग से सब फर्जीवाडा है l

पुरे गबन का ब्यौरा
बुलन्दशहर २४०४००० का गबन
शाहजहांपुर १२००००० का गबन
ट्रेनिंग शुरु करने के नाम पर आम लोगो के पैसे का गबन
शिवम् कपूर ८०००००
प्रतिभा चंदेल २५००००, 5 लाख लिए थे २५०००० वापस किए सिर्फ
ओ पि गोएल १०००००

पूरा गबन ४७५४००० ये संस्था अब तक इतना गबन कर चुकी है

येही नहीं इस ngo की संचालिका जहा भी काम किया बड़ा फ्रॉड किया यहा तक की अगर इसने कोई ट्रेनिंग प्रोग्राम भी कराया तो भी फ्रॉड तरीके से

• ये ngo जो थोड़े बहुत 10 % असली हस्ताक्षर कराता था उसमें भी ये पहेली बार मैं ही 3 दिवसीय कार्यशाला मैं महिलाओ से 5 जगह हस्ताक्षर और 1 दिवसीय मैं 3 जगह हस्ताक्षर करा लेता था ये कह कर की 5 या 3 जगह रोज होंगे असल मैं वो महिलाओ से तिन दिन के हस्ताक्षर और किट और मानदेय के हस्ताक्षर एक साथ ले लेता था ताकि मानदेय देना न पड़े और महिलाओ के बचे हुए हस्ताक्षर फर्जी कर सके l

Sh
Sep 16, 2014

Post your comment